Blockchain Kya Hai

Blockchain Kya Hai | Blockchain Technology in Hindi Drishti IAS 2022

इस आर्टिकल में आप Blockchain Kya Hai & Blockchain Technology in hindi drishti ias 2022 के बाड़े में पढ़ने वाले है। Blockchain से जुडी सम्पूर्ण जानकारी इसमें आपको मिलने वाली है। आप इसे पूरा अंत तक पढ़े। Blockchain Kya Hota Hai, Top 5 Blockchain Benefits kya hai, Blockchain Technology Kya Hai आदि आप इस आर्टिकल में पढ़ने वाले है।

Blockchain Kya Hai

Blockchain एक बड़ा सा बटा हुवा Database है। हजारो से लाखो Computer पर ये शेयर्ड होता है। ये जितने भी Computer होते है वो सब आपस में जुड़े होते है। जैसे एक दुकानदार अपनी दुकान में एक Register बना कर रखता है। उसमे लिखा होता है की कितना राशन आया और कितना बिका।

उसी प्रकार Blockchain भी एक Digital register की तरह होता है। Blockchain का कई sector में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके पॉपुलर होने की सबसे बड़ी वजह cryptocurrency से होने वाली transaction के लिए। Blockchain Technology सबसे पहले 1991 में आया था। उसको पहली बार experiment के लिए लाया गया था।

Blockchain Kya Hota Hai

इस technology की शुरुआत 2009 से की गई थी। जब bitcoin मार्केट में आया था। Satoshi Nakamoto ने जब 2009 में बिटकॉइन की शुरुवात की तब उस समय Blockchain technology का इस्तेमाल किया था। जैसे आप ने कोई bitcoin खरीदा तो ये जो transaction हुई ये information एक Block के form में बनकर सेव हो गई।

उसके बाद आपने फिर bitcoin को बेच दिया तो फिर से एक Block बन गया। इस तरह आप जितनी बार transaction करेंगे तो उसका एक Block बनता जायेगा। और वो सरे Block एक chain से जुडते जायेंगे। इसलिए इसे Blockchain कहा जाता है।

Blockchain Kya Hai

आपने कभी सोचा है की ये हमारे transaction यानि की जो भी लेन देन होते है उसे ये अपने पास save कैसे रखता है। हर एक Block की अपनी एक identity होती है। जैसे आपका और मेरा fingerprint कभी एक जैसा नहीं हो सकता है। ठीक उसी तरह हर Block को एक key मिलती है। जो उसकी अपनी होती है। और सबसे अलग और unique होती है।

क्योकि ये decentralized होता है। अगर इस chain के Block में कोई problem भी आती है तो उससे बाकि Block पर कोई असर नहीं होता है। Blockchain एक ऐसा system है जिसे hack करना या remove या change करना लगभग ना के बराबर है।

Top 5 Blockchain Benefits in Hindi

  • ये technology distributed है और इसमें store जानकारी किस library या सरकारी दफतर की तरह एक जगह नहीं रखी जाती है। इसको संभालने या maintain करने के लिए किसी middlemen की जरूरत नहीं होती है।
  • Blockchain एक दम transparent है। इसमें आप और में कभी भी इसे access कर सकते है। और अपनी transaction पर नजर रख सकते है। जिससे की fraud के chances बहुत कम हो जाते है।
  • Blockchain पर हर information को बहुत ही आसानी से trace किया जा सकता है। इसमें हम पुरानी से पुरानी transaction को भी हम देख सकते है।
  • Blockchain technology एकदम fast काम करती है। हर चीज का लिखा हुवा और record बनाने में बहुत टाइम लगता है। लेकिन वोही जानकारी को Blockchain के जरिये save करे तो बहुत आसानी से और बहुत जल्दी हो सकता है।
  • Blockchain बहुत ही safe technology मानी जाती है। इसलिए आप tension free रहकर इसका इस्तेमाल कर सकते है।

बहुत से भारतीय bank ने इस Blockchain technology को इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। जैसे e-kyc, e-signature के जरिये online document को verify करने के लिए commercial letters बनाने के लिए etc.

NITI Aayog ने भी Blockchain पर white पेपर publish कर दिया है। जिसमे e-governance को लेकर इसके इस्तेमाल की बात की गई है। 2010 में पहली बार florida के एक आदमी ने 10,000 bitcoin से 2 pizza खरीदे थे। आज 1 BTC = 15 लाख रुपए हो गई है। आप सोचिये की 10,000 bitcoin की कीमत क्या हो सकती है।

Blockchain Technology in Hindi Drishti IAS

Blockchain technology एक distributed ledger technology का एक हिस्सा है। Blockchain में डाटा को Blocks में store करते है। साल 2009 में Satoshi Nakamoto ने पहला public ledger ब्लॉकचैन bitcoin के लिए त्यार किया।

साल 2014 में Blockchain technique में बिटकॉइन के ether अन्य छेत्रो में इसके अनुप्रोयोगे पर बात की गई। Blockchain system को हम कहानी के माध्यम से समझे है। मान ले की आप 4 दोस्त है। रमेश, सुरेश, मोहन और श्याम। आपका आपस में रोज लेन देन होता रहता है।

पैसे के मामले की वजह से दोस्ती खराब न हो इस लिए एक व्यवस्था है। इन चारों ने अपना एक ledger account बना रखा है। सभी लेन देन का record उसमें रखते है। रमेश ने सुरेश को जब 500 रुपए दिए तो date और signature के साथ ledger account में entry कर दी गई। अब ये जानकारी मोहन और श्याम के पास भी थी।

सुरेश ने रमेश को जब 250 रुपए वापस किये तो इसे भी date और time सहित note कर दिया गया। पुराना रिकॉर्ड वही लिखा हुवा है। नये रिकॉर्ड को अलग से लिखा गया है। जबकि पुराने में कोई बदलाव नहीं किया गया. इन 4 दोस्तों के पास हर लेन देन की जानकारी है।

यहां तक की जब भी कोई नया record दर्ज किया जाता तो चारो के sign से उसपर सहमती मिलती थी। एक बार लगा मोहन को रमेश ने सुरेश से ज्यादा पैसे ले लिए है। उसी समय पुराने record check किये गए। Date और time सहित सबके sign वाले रिकॉर्ड मिल गए। क्योंकि कहीं भी record को कांटा नहीं गया था। और हर बार सुचना को अलग से ही entry किया था।

Blockchain Technology Kya Hai in Hindi

इसलिए ये प्रॉब्लम भी solved हो गई। कुछ ऐसी ही कहानी ब्लॉकचैन नाम के public ledger यानि बहीखाते की है। क्योकि blockchain digital है। इसमें सारा paper वर्क coding और mathematic calculation के जरिये होता है। इसमें block की एक chain या श्रृंखला होती है।

इन blocks में कुछ information होती है। ये information infographic के जरिये encoded होती है। इसे सिर्फ वही decorated कर सकते है जिनके लिए भेजा गया है। अगर Blockchain का इस्तेमाल money transfer के लिए किया जा रहा हो तो blocks में sender का naam receiver का naam और amount की जानकारी होती है।

इसके आलावा ब्लॉक्स में एक हैश भी होता है। हैश unique identifier codes होते है। इसकी तुलना आप fingerprint से भी कर सकते है। जिस प्रकार fingerprint unique होता है उसी प्रकार हैश भी यूनिक होता है। पिछले ब्लॉक्स का हैश अगले ब्लॉक्स में भी add किया जाता है। एक हैश उस ब्लॉक का भी होता है।

हैश में एक कोड जैसे 1zf89c2 होता है। आगे ब्लॉक में ये कोड और उस ब्लॉक का कोड 2p9f3jk होगा। नया कोड insert करने के लिए आपको पिछले हैश की जानकारी होनी चाहिए। अगर उसे पिछले ब्लॉक्स का हैश नहीं पता तो उसे सारे ब्लॉक्स में बदलाव करने पड़ सकते है।

Ledger P To P Network पर आधारित होता है। इस तरह किसी एक ब्लॉक में बदलाव करने पर सारे nodes को पता चल जाता है। क्योकि एक system से पूरी chain connect नहीं होती है बल्कि पूरी chain के सारे system एक दूसरे से connect होते है।

Read Also More Stories:-

Conclusion ( निष्कर्ष )

दोस्तों मेने इस Article के माध्यम से Blockchain Kya Hai, Blockchain Kya Hota Hai, Top 5 Blockchain Benefits in Hindi और Blockchain Technology in Hindi Drishti IAS इन सभी के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। अगर आपको किसी प्रकार का सवाल है तो आप हमे निचे कमेंट में पूछ सकते हैं।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर जरूर करें। साथ ही मेरे Youtube चैनल instagram viral tips by sidd और Telegram पेज motivationalspeechinhindi इसको Follow करे। क्योकि इसमें technology से जुड़ी सभी updates देखने को मिलेगी।

1.) ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है?

Answer:- इस technology की शुरुआत 2009 से की गई थी। जब bitcoin मार्केट में आया था। Satoshi Nakamoto ने जब 2009 में बिटकॉइन की शुरुवात की तब उस समय Blockchain technology का इस्तेमाल किया था। जैसे आप ने कोई bitcoin खरीदा तो ये जो transaction हुई ये information एक Block के form में बनकर सेव हो गई।

उसके बाद आपने फिर bitcoin को बेच दिया तो फिर से एक Block बन गया। इस तरह आप जितनी बार transaction करेंगे तो उसका एक Block बनता जायेगा। और वो सरे Block एक chain से जुडते जायेंगे। इसलिए इसे Blockchain कहा जाता है।

2.) ब्लॉकचेन तकनीक क्या है?

Answer:- ये technology distributed है और इसमें store जानकारी किस library या सरकारी दफतर की तरह एक जगह नहीं रखी जाती है। इसको संभालने या maintain करने के लिए किसी middlemen की जरूरत नहीं होती है।
Blockchain एक दम transparent है। इसमें आप और में कभी भी इसे access कर सकते है। और अपनी transaction पर नजर रख सकते है। जिससे की fraud के chances बहुत कम हो जाते है।

3.) क्रिप्टोकरंसी कितने प्रकार के होते हैं?

Answer:- क्रिप्टोकरंसी 12 प्रकार की हो सकती है। जैसे Bitcoin, Ethereum, Binance Coin, Tether, Solana, Usd Coin, Cardano Xrp, Terra, Polkadot, Avalanche, Dogecoin, etc.

4.) ब्लॉकचेन कितने प्रकार की होती है?

Answer:- ब्लॉकचेन को 4 भागो में बाटा गया है। जैसे Public blockchain, Private blockchain, हाइब्रिड blockchain एवं कंसोर्टियम blockchain, etc.

Related Posts

India Post Office Recruitment 2023 Legendary Brazilian Footballer Pele Died At The Age of 82 Heera Ben Passed Away At The Age of 100 Chat GPT Kya Hai 2023 Samsung Galaxy M04 5g Price in india 2022